Monday, July 11, 2016

UGC-NET&SET-MODEL PAPER-87

UGC-NET&SET-MODEL PAPER-87


1. जयशंकर प्रसाद के नाट्यगीतों को उनके नाटकों के साथ सुमेलित कीजिए।
1) आह वेदना मिली विदाई, मैंने भ्रमवश जीवन संचित मधुकरियों की भीख लुटाई।      क) अजातशत्रु
2) यौवन तेरी चंचल छाया इसमें बैठ घूँट भर पी लूँ जो रस तू है लाया।      ख) ध्रुनस्वामिनी
3) कैसी कडी रूप की ज्वाला पडता है पतंग-सा इसमें मन हो कर मतवाला।      ग) स्कंदगुप्त
4) स्वर्ग है नहीं दूसरा और सज्जन ह्रदय परम करूणामय यही एक है ठौर।       घ) कामना
       ङ) चन्द्रगुप्त

2. निम्नलिखित निबंध संग्रहों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए।
1) आस्था और सौंदर्य                 क) निर्मल वर्मा
2) अपनी अपनी बीमारी              ख) विद्यानिवास मिश्र
3) कला का जोखिम                    ग) रामविलास शर्मा
4) तमाल के झरोखे से                 घ) हरिशंकर परसाई
                                                  ङ) बालमुकुंद गुप्त

3. निम्नलिखित उपन्यासों को उनमें चित्रित गाँवों के साथ सुमेलित कीजिए।
1) रागदरबारी                       क) गंगौली
2) आधा गाँव                        ख) बेलारी
3) मैला आँचल                      ग) लखनपुर
4) गोदान                              घ) मेरीगंज
                                             ङ) शिवपालगंज

4. निम्नलिखित संप्रदायों को उनके आचार्यों के साथ सुमेलित कीजिए।
1) औचित्य                     क) भरत मुनि
2) वक्रोक्ति                     ख) आनन्दवर्द्धन
3) ध्वनि                          ग) भामह
4) रस                              घ) क्षेमेंद्र
                                       ङ) कुन्तक

5. निम्नलिखित रचनाओं को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिए।
1) चर्च एण्ड स्टेट                             क) मैथ्थू आर्नल्ड
2) लिटरेचर एंड ड्रामा                       ख) होरेस
3) द फाउंडेशन ऑफ एस्थेटिक्स       ग) कॉलरिज
4) आर्स पोएतिका                            घ) विलियम वड्रर्सवर्थ
                                                       ङ) आई.ए.रिचड्रर्स